महिंद्रा ने प्रीमियम एसयूवी अल्टुरास को भारत मे किया लांच.

Mahindra Alturas G4महिंद्रा ऑटो कंपनी ने अपनी नई फुल साइज प्रीमियम एसयूवी अल्टुरास को भारत मे लांच कर दिया है। कार के लांच होने से पहले ही इस कार के बारे में यह कहा जा रहा था की यह टोयोटा की फॉर्च्युनर के टक्कर की है । हालांकि महिंद्रा की नई एसयूवी Alturas में कई ऐसे फीचर्स हैं जो इस कार को फॉर्च्युनर से ज्यादा बेहतर बनाते हैं। फिलहाल, हम आपको इन दोनों कारों के सभी फीचर्स की तुलना करते हुए विस्तार से बताएंगे ता कि आप समझ सकें कि आखिर कौन किस पर भारी है। 

साइज और डाइमेंशन्स (महिंद्रा अल्टूरस जी4)  

लंबाई- 4,850 mm

चौड़ाई- 1,960 mm 

ऊंचाई- 1,800 mm

व्हीलबेस- 2,865 mm

टोयोटा फॉर्च्युनर 

 लंबाई- 4,795 mm

चौड़ाई- 1,855 mm

ऊंचाई- 1,835 mm

व्हीलबेस- 2,745 mm 

 कुल मिलाकर महिंद्रा की नई एसयूवी ऊंचाई को छोड़कर हर तरह से टोयोटा फॉर्च्युनर से बड़ी है

Mahindra Alturas G4इंजन

 

महिंद्रा की नई एसयूवी में  BS-VI मानकों वाला 2.2 लीटर का डीजल इंजन दिया गया है। जो कि 178 बीएचपी की पावर और 400 एनएम का टॉर्क जेनरेट करेगा। वहीं टोयोटा फॉर्च्यूनर में 2.8-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन दिया गया है जो 174.5 बीएचपी पर 3,400 आरपीएम और 420 एनएम का टॉर्क जनरेट करता है। 

 

महिंद्रा की नई कार में मर्सेडीज-बेंज वाला 7-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स दिया गया है। वहीं  फॉर्च्युनर के डीजल इंजन में टोयोटा ने 6-स्पीड मैन्युअल और ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन दोनों ही विकल्पों को उपलब्ध कराया है, जबकी कार के पेट्रोल इंजन में कंपनी ने 5-स्पीड मैन्युअल ट्रांसमिशन और 6-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन दिया है। 

फ्यूल टैंक 

फॉर्च्युनर का फ्यूल टैंक अल्टूरस पर भारी है। अल्टूरस में जहां आपको 70-लीटर वाला फ्यूल टैंक मिलेगा वहीं फॉर्च्युनर में 80 लीटर का फ्यूल टैंक दिया गया है।

इंटीरियरMahindra Alturas G4

वैसे तो दोनों ही एसयूवी बेहतरीन फीचर्स से लैस हैं महिंद्रा अल्टूरस में कंपनी ने लेदर इंटीरियर, एलईडी कैबिन लाइट्स, इलेक्ट्रॉनिक पार्किंग ब्रेक, अडजेस्टेबल ड्राइवर सीट, और 8-इंच का टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम दिया गया है जो ऐंड्रॉयड ऑटो और ऐपल कार प्ले सपॉर्ट करता है। 

वहीं फॉर्च्युनर का इंटीरियर ब्राउन लेटर सीट्स से लैस है। इसके अलावा इसमें भी ऑडियो कनेक्टिविटी और नेविगेशन के साथ टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम,अडजेस्टेबल ड्राइवर सीट, ऐंबिएंट वाली लाइटिंग, ऑटोमैटिक क्लाइमेट कंट्रोल जैसे फीचर्स दिए गए हैं।  सेफ्टी फीचर्स और एयरबैग्स 

महिंद्रा की नई कार में सेफ्टी फीचर्स के तौर पर  9 एयरबैग्स दिए गए हैं जबकि फॉर्च्युनर में सिर्फ 7 एयरबैग्स ही मौजूद हैं। अल्टूरस को ABS,EBD और हिल असिस्ट जैसे फीचर्स से लैस किया गया है। वहीं इस कार में ऐक्टिव रोलओवर मिटिगेशन के साथ ESP का भी फीचर दिया गया है। जो कि कार की दिशा एसयूवी के टर्न या दिशा बदलने के दौरान रिस्क को कम करता है। वहीं फॉर्च्युनर भी इलेक्ट्रॉनिक स्टैबिलिटी प्रोग्राम (ESP) सेफ्टी फीचर से लैस है। 

कीमत 

वैसे तो टोयोटा की कार अब तक की सबसे दमदार एसयूवी मानी जाती है, लेकिन अब इस श्रेणी में अल्टूरस को जगह मिलना स्वाभाविक है। कीमत की बात करें तो अल्टूरस की दिल्ली में एक्सशोरूम कीमत 26.95 लाख रुपए रखी गई है, वहीं फॉर्च्यूनर बाजार में 26.31 लाख रुपए की कीमत में मौजूद है।

# अवार्ड देने आये बच्चे को गोद में उठाकर शिखर ने जाहिर की अपने जीत की खुसी #

नमस्कार दोस्तों ,

दोस्तों, भारतीय क्रिकेट के सबसे दमदार ओपनिंग बैट्समैन में से एक शिखर धवन अपने बिंदास अंदाज के लिए जाने जाते हैं। उनका कुछ ऐसा ही अंदाज सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर तब नज़र आया जब शिखर को ‘मैन ऑफ द सीरीज’ अवॉर्ड लेने के लिए मंच पर बुलाया गया। उन्हें यह अवॉर्ड देने के लिए एक बच्चे (मस्कट) को बुलाया गया, जिसे शिखर धवन ने मंच पर पहुंचते ही गोद में उठा लिया। इसका विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। हालांकि, उनके इस फनी अंदाज के पीछे उनका बेहतर प्रदर्शन और भारत की शानदार जीत मुख्य वजह रही और शिखर ने अपने इस चुलबुले अंदाज़ में व्यक्त किया।


शिखर ने जैसे ही बच्चे को गोद में उठाया फैंस ने जोरदार ढंग से चियर किया। शिखर धवन ने 3 मैचों की टी-20 सीरीज की दो पारियों में एक अर्धशतक सहित कुल 117 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 58.50 और स्ट्राइक रेट 182.81 का रहा। आपको यह बता दें कि तीसरे मैच में उन्होंने 41 रनों की जोरदार पारी खेली, जिसकी बदौलत भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से  हराने में कामयाबी मिली।

 

अवॉर्ड लेने के दौरान उन्होंने कहा कि यहां ऑस्ट्रेलिया में इतने भारतीय फैंस को देखकर खुशी हो रही है। उम्मीद है कि वे टेस्ट और वनडे सीरीज के दौरान भी इसी तरह टीम इंडिया का उत्साहवर्धन करेंगे । मैं भी कोशिश करूंगा इससे भी बेहतर खेलकर आपको और भी अधिक मनोरंजन कर सकूँ और आपको खुश कर सकूँ।  

ये है वो पांच कारण, जिनकी वजह से 26 नवंबर को मनाया जाता है संविधान दिवस।

Image result for bhartiya sanvidhan

 

नमस्कार दोस्तों, 

दोस्तों, आज 26 नवंबर है, और आज के दिन को भारत में संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है। साल 1949 में आज ही के दिन  26 नवंबर 1949 को भारत का संविधान अर्थात कंस्टीटूशन ऑफ़ इंडिया बनकर तैयार हुआ था। संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव आंबेडकर ने भारतीय संविधान को बनाने में कुल दो साल ग्यारह महीने और अट्ठारह दिनों का वक्त लगाया था. और इतने कम समय में संविधान को पूरा कर आज ही के दिन राष्ट्र को समर्पित कर दिया था. हमारा संविधान विश्व  बड़ा संविधान माना जाता है. भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को देश में लागू किया गया था.  द्वारा पहली बार २०१५ में “संविधान दिवस” मनाया गया। डॉक्टर भीमराव आंबेडकर के योगदान को याद करने और संविधान के महत्व का प्रसार करने के लिए “संविधान दिवस” मनाया जाता है।

बता दें कि संविधान सभा के सदस्य भारत के राज्यों की सभाओं के निर्वाचित सदस्यों के द्वारा चुने गए थे. पंडित जवाहरलाल नेहरू, डॉ भीमराव अम्बेडकर, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि इस सभा के प्रमुख सदस्य थे. संविधान का मसौदा तैयार करने में किसी भी तरह की टाइपिंग या प्रिंटिंग का इस्तेमाल नहीं किया गया था. भारत के संविधान से जुडी ये पांच बातें हर भारतीय को जानना चाहिए.

Image result for भीमराव आंबेडकर का जन्मभारत के संविधान से जुड़ी 5 बातें

 

  1. भारत संविधान (Constitution Day) 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हुआ था. भारतीय संविधान    को दो साल, 11 महीने और 18 दिनों में तैयार किया गया था.  भारतीय संविधान में 448 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियां हैं और ये 25 भागों में विभाजित है.
  2.  संविधान सभा के 284 सदस्यों ने 24 जनवरी 1950 को दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे फिर दो दिन बाद 26 जनवरी 1950 को इसे लागू किया गया था.
  3. संविधान (Constitution) का मसौदा तैयार करने में किसी भी तरह की टाइपिंग या प्रिंटिंग का इस्तेमाल नहीं किया गया था.
  4. 29 अगस्त 1947 को भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने वाली समिति की स्थापना की गई थी और इसके अध्यक्ष के तौर पर डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की नियुक्ति हुई थी. जवाहरलाल नेहरू, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि इस सभा के प्रमुख सदस्य थे.
  5. संविधान सभा पर अनुमानित खर्च 1 करोड़ रुपये आया था.

दोस्तों अपने जरुरत की हर खबर पढ़ें खबरतहलका न्यूज़ पर एक अलग ही अंदाज़ में, हमारे ताजा न्यूज़ पोस्ट से जुड़े रहने के लिए हमें सब्सक्राइब करना न भूलें. धन्यवाद्.