Category Archives: Crime

Crime Related News, murder, rep, maar peet, attack

अभी-अभी : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुआ बड़ा नक्सली हमला। बीजेपी नेता व पांच जवान शहीद।

Image result for chattisgarh naksali hamla dantewada

नमस्कार दोस्तों,

दोस्तों, लोकसभा चुनाव से महज दो दिन पहले छत्तीसगढ़ दंतेवाड़ा में हुए इस नक्सली हमले ने दंतेवाड़ा में दहशत का माहौल बना दिया है। नक्सलियों ने इस हमले को अंजाम देने के लिए बड़ी भारी मात्रा में आईईडी  का इस्तेमाल किया है। चुनाव प्रचार के आखरी दिन बीजेपी नेता अपने प्रचार कार्य में व्यस्त थे और इसी सिलसिले में वे दंतेवाड़ा जा रहे थे। हमला इतना भयानक था की जिस गाड़ी पर मंत्री जी जा रहे थे उस गाड़ी के परखच्चे उड़ गए हैं। यह पहचान पाना भी मुश्किल है की वह गाड़ी कौन सी है।

Image result for bhima mandawi par naksali hamla

बीजेपी के जिस विधायक के काफिले पर यह हमला किया गया गया उनका नाम भीमा मंडावी है।  ताज़ा खबर के मुताबिक दंतेवाड़ा के श्यामगिरी इलाके में नक्सलियों ने आईडी ब्लास्ट किया जिसके चपेट में विधायक भीमा मंडावी के काफिले की कई गाड़ियां आ गई।

बताया जा रहा है की हादसे के वक्त मंत्री जी चुनाव प्रचार के सिलसिले में कुकाकोण्डा पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले श्याम गिरी इलाके से गुजर रहे थे। तभी नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट कर काफिले को धमाके से उड़ा दिया। इस ब्लास्ट के बाद नक्सलियों ने काफिले पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। यह ब्लास्ट इतना भयानक था की जमींन पर करीब 5 फिट गढ्ढा हो गया। इस हमले की जानकारी मिलते ही सीआरपीएफ के जवान घटना स्थल पर बचाव कार्य के लिए पहुंच गए। काफी देर तक नक्सलियों और जवानों के बीच मुठभेड़ हुई जिसमे सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए।

इस हमले में घायल हुए लोगों को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है इनमे से कुछ लोगों की हालत नाज़ुक बताई जा रही है। डीआईजी पी सुन्दर राज ने बताया की इस नक्सली हमले में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की मौत हो गई है। जिस वक़्त हमला हुआ तब मंत्री जी की गाड़ी काफिले में सबसे आखिर में थी और हमले के ऐन वक़्त पर उनकी गाड़ी धमाके के चपेट में आ गई।

दोस्तों, ताज़ा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करना न भूलें धन्यवाद्। 

पुलवामा में आतंकवाद की भेंट चढ़े CRPF के 44 शहीद जवानों को देश वासियों की श्रद्धांजलि।

google

नमस्कार दोस्तों,

दोस्तों, 14 फरवरी को जब देश का हर नौजवान वैलेंटाइन डे मना रहा था तभी धरती की ज़न्नत से एक ऐसी खौफनाक खबर आयी जिसने माँ भारती के कलेजे को छलनी कर दिया और हर भारतवासी के आँखों को आंसुओं से भर दिया। दोपहर के करीब तीन बजे जब CRPF बटालियन के जवानों की शिफ्टिंग चल रही थी और जवानों से भरे बसों का काफिला शिफ्टिंग के लिए रवाना हुआ तभी अचानक 300 किलो I.E.D विष्फोटक से भरा स्कार्पिओ जो की पहले डिवाडर के साइड पर बंद खड़ा था वह जवानों से भरे एक बस से जा भिड़ा। देखते ही देखते 44 जवान शहीद हो गए।

पुलवामा आतंकी हमले में 44 CRPF जवान शहीद, पीएम ने कहा पाकिस्तान को जल्द मिलेगा जवाब।

पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने इस हमले को आत्मघाती हमला बताते हुए इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है। इस आत्मघाती हमले को अंजाम देने वाले और छुपकर पीठपीछे वॉर करने वाले उस बुज़दिल आतंकवादी का नाम आदिल अहमद डार बताया गया है। इस हमले से सभी 130 करोड़ भारतवासी आहात हैं और केंद्र सरकार से इस हमले के असली गुनहगारों और षड्यंत्रकारियों को जल्द से जल्द पकड़ कर मौत की सजा देने की मांग कर रहे हैं। साथ ही पाकिस्तान में छिपकर भारत में आतंकी हमलों को अंजाम देने वाले सभी आतंकी संगठनों को पकिस्तान में घुस कर मारने की मांग कर रहे हैं।

 

ब्रेकिंग न्यूज़ : अभी अभी पुलवामा में हुआ बड़ा आतंकी हमला, 42 जवान हुए शहीद।

 

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए इस आतंकी हमले से शहीद हुए CRPF के 44 जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की जवानों का बलिदान खली नहीं जाएगा। पाकिस्तान ने अब तक की सबसे बड़ी गलती कर दी है और अब पाकिस्तान को इस गलती का बहोत बडा खामियाज़ा भुगतना पड़ेगा। प्रधान मंत्री मोदी ने कहा की CCS बैठक के बाद देश की सेना को इस शहादत का बदला लेने की पूरी छूट दे दी गई है। सेना यह तय करेगी की वह कब और किस तरह पाकिस्तान को इस हमले का जवाब देगी।

बैंक में निकली वैकेंसी, अगर भविष्य संवारना है तो 18 फरवरी तक करें आवेदन।

आज दिन के ग्यारह बजे प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी। इस बैठक में सभी विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री मोदी से पाकिस्तान और आतंकवाद को सबक सीखाने की मांग करते हुए इस मामले में राजनीति न करने और सरकार के साथ खड़े होने का भरोसा दिलाया।

हमले के अगले ही दिन 15 फ़रवरी को भारत ने पकिस्तान से सरे सम्बन्ध ख़त्म करते हुए पाकिस्तान के अम्बेसेडर को वापिस उसके देश भेज दिया। इस हमले के बाद सभी राजनितिक दलों ने सारे राजनितिक मुद्दों को किनारा करते हुए देश के सम्मान की इस लड़ाई में सरकार के साथ कड़ी दिखाई पड़ रही है।

थम नहीं रहा मासूमों के साथ दुराचार का अपराध, आखिर कौन है ज़िम्मेदार?

भारत पर हुए इस आतंकी हमले पर अन्य देशों ने भी अपना दुःख व्यक्त किया है। अमेरिका ने पाकिस्तान को धमकी भरे लहज़े में कहा है की वह जल्द से जल्द अपने देश से आतंकियों को संरक्षण देना बंद करे। भारत पर हुए इस आतंकी हमले पर अभी तक चीन की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। चीन पहले भी पकिस्तान का हितैषी रहा है और अभी भी पाकिस्तान का समर्थन करता हुआ दिखाई दे रहा है।

दोस्तों इस खबर की लगातार ताज़ा अपडेट पाने के लिए इसे फॉलो करना न भूलें, धन्यवाद्। 

पुलवामा आतंकी हमले में 44 CRPF जवान शहीद, पीएम ने कहा पाकिस्तान को जल्द मिलेगा जवाब।

ठान लिया यह हिंदुस्तान, ख़त्म होगा अब पाकिस्तान। 

जय हिन्द भारतवासियों,

दोस्तों, आज मैं बहोत आहत हूँ, क्योंकि देश का दुश्मन मेरी भारत माँ की आँचल को एक बार फिर लहूलुहान करने में कामयाब हो गया। पाकिस्तान का पालतू और नामर्द आतंकी षड्यंत्र रच कर एक बार फिर भारत माँ के सपूतों का खून बहाने में कामयाब हो गए। अपनी गिरी हुई हरकत से पाकिस्तान ने यह साबित कर दिया है की उनकी जननियों ने मर्द पैदा करना बंद कर दिया है। यही वजह है की पाकिस्तान में केवल हिज़ड़े ही पैदा हो रहे हैं जिन्होंने आमने सामने की लड़ाई करना कभी सीखा ही नहीं क्योंकि ऐसा करने का हुनर उनके खून में ही नहीं है। यह उनकी नामर्दानगी ही है की वे युद्ध करने से भागते हैं और छुपकर हमारे सैनिकों पर हमला करते हैं।

ब्रेकिंग न्यूज़ : अभी अभी पुलवामा में हुआ बड़ा आतंकी हमला, 42 जवान हुए शहीद।

पुलवामा आतंकी हमले ने एक बार फिर पुरे देश को गम में डुबो दिया है। इस हमले से देश दुखी तो है पर दुःख से कहीं ज्यादा देश की जनता के भीतर आक्रोश झलक रहा है। आज देश का हर शख्स चाहे वह किसी भी मजहब या राजनैतिक पार्टी का पक्षधर हो वह अपने सारे मुद्दे भुलाकर एकजुट होकर एकस्वर में देश की सरकार से आतंकवाद के खात्मे की मांग कर रहा है। देश की जनता के दिल में भय भी है और आक्रोष भी। भय इसलिए है कि जिस देश की सीमा और देशवासियों की सुरक्षा करने वाले सुरक्षा कर्मियों को इस तरह दिनदहाड़े खुलेआम भारी विष्फोटक से उड़ा दिया जाता है, उस देश का आम नागरिक खुद को कैसे सुरक्षित महसूस करे। और आक्रोष इसलिए की हमारे लाख बार दोस्ती का हाथ बढ़ाने के बावजूद जब पाकिस्तान अपनी मक्कारी से बाज़ नहीं आ रहा और गले मिलकर पीठ पर खंज़र मार रहा है तो फिर हमारी सरकार ऐसे देश से और कब तक और क्यों उम्मीदें लगाकर रखी है।

बैंक में निकली वैकेंसी, अगर भविष्य संवारना है तो 18 फरवरी तक करें आवेदन।

देश के जिन 44 जवानों ने देश की रक्षा के लिए शहीद होने का सपना देखा रहा होगा उनका इस तरह बिना किसी युद्ध के शहादत एक सैनिक के जीवन का अपमान है। अगर देश के जवानों की शहादत शरहद पर लड़ कर हो तो यह उसके लिए सम्मान की बात होती है पर इस तरह पाकिस्तान ने कायरता दिखते हुए छुपकर हमारे सिपाहियों की हत्या की है जिसे हिंदुस्तान कभी माफ़ नहीं करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हमले की निंदा करते हुए कहा है कि ‘पाकिस्तान ने अपनी सबसे बड़ी गलती कर दी है। हमने देश की सेना को जवाबी कार्यवाही की पूरी छूट दे दी है। हमले की रूप रेखा, जगह और समय देश की सेना तय करेगी।’ इस आतंकी हमले ने पुरे भारत देश को आतंकवाद के खिलाफ एकजुट कर दिया है। सभी विरोधी पार्टियों ने भी केंद्र सरकार का साथ देने की बात करते हुए कहा है की वे जल्द ही पाकिस्तान को इस हमले का जवाब दें।

थम नहीं रहा मासूमों के साथ दुराचार का अपराध, आखिर कौन है ज़िम्मेदार?

दोस्तों, यदि आपका भी खून खौलता है और आप भी चाहते हैं की आतंकवाद को इस बार मुहतोड़ जवाब मिले तो मुझे कमेंट बॉक्स में जय हिन्द ज़रूर लिखें। जय हिन्द।

ब्रेकिंग न्यूज़ : अभी अभी पुलवामा में हुआ बड़ा आतंकी हमला, 42 जवान हुए शहीद।

नमस्कार दोस्तों,

दोस्तों, गुरुवार 14 फ़रवरी को जम्मू – कश्मीर के पुलवामा में बड़ा आतंकी हमला हुआ है। पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश- ए -मोहम्मद ने इस आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी ली है।   जैश ए  मोहम्मद नाम के आतंकी संगठन ने पुलवामा में सीआरपीएफ के 2500 जवानों से भरी बसों के काफिले पर IED से भरी एक बस से आत्मघाती हमला कर जवानों के एक बस को उड़ा दिया। इस हमले में अब तक 42 जवान शहीद हो चुके हैं और 45 से अधिक जवान गंभीर रूप से घायल हैं।
इस हमले से घायल हुए जवानों को सेना के 92 बेस अस्पताल श्रीनगर के बादामीबाग में भर्ती कराया  कराया गया है। इस हमले के बारे में बताते हुए सीआरपीएफ के अधिकारी ने कहा कि सीआरपीएफ 92, 17 और 54 बटालियन के कुल 44 जवान बस में सवार थे।
राज्यपाल सत्यप्रकाश ने कहा
इस घटना के बारे में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए जम्मू कश्मीर के राज्यपाल श्री सत्यपाल मालिक ने कहा कि ‘जवानों का इतना बड़ा काफिला लेकर नहीं चलना चाहिए था। पाकिस्तानी आतंकी, जम्मू कश्मीर के स्थानीय युवाओं को भड़का  रहे हैं और उन्हें देश के खिलाफ इस्तेमाल कर रहे हैं। हमारे सुरक्षा कर्मी बहोत ही मुश्किल परिस्थितियों में काम कर रहे हैं। हम सभी आतंकियों को ख़त्म करके ही दम लेंगे।’
ख़ुफ़िया एजेंसियों ने 8 फ़रवरी से ही कर दिया था अलर्ट। 
इस घटना के बारे में सबसे चौकाने वाली बात यह आ रही है की ख़ुफ़िया एजेंसियों ने 8 फरवरी को ही अलर्ट कर दिया था कि कश्मीर के सुरक्षाबलों को डेप्लॉयमेंट और उनके आने जाने के रास्ते पर आतंकी IED से हमला कर सकते हैं। 7 दिन पहले मिली इस चेतावनी के बावजूद सुरक्षाकर्मियों पर इतना बड़ा हमला हो जाना भी एक बड़ी चूक माना जा रहा है।
सुरक्षा कर्मियों ( CRPF ) के काफिले पर आत्मघाती हमला करने वाले आतंकी का नाम आदिल अहमद डार बताया जा रहा है।  जैश ए मोहम्मद नाम के आतंकी संगठन ने इस घटना की ज़िम्मेदारी लेते हुए हमलावर आतंकी का वीडियो भी जारी कर दिया है।
दोस्तों, मैं इस हमले से शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों को श्रद्धांजलि देते हुए देश के जनता और अपने पाठकों से यह प्रश्न करना चाहता हूँ कि इन आतंकी संगठनों को किस तरह ख़त्म किया जा  सकता है। क्या आप सरकार पर एक और सर्जिकल स्ट्राइक के लिए दबाव बनाएंगे या इन शहीदों की शहादत यूँ ही मिट्टी में मिल जायेगी।  आपका क्या जवाब है मुझे कमेंट करके जरूर बताएं, धन्यवाद्।

थम नहीं रहा मासूमों के साथ दुराचार का अपराध, आखिर कौन है ज़िम्मेदार?

google

नमश्कार दोस्तों,

दोस्तों, अच्छाई और बुराई हमारे समाज के दो पहलु हैं, जिस तरह एक सिक्के के दो पहलु होते हैं, एक नदी के दो किनारे, दिन के बाद रात ठीक उसी प्रकार इस दुनिया में जहाँ जहाँ मानव सभ्यता के कदम पड़े हैं वहां अच्छे और बुरे दोनों तरह के इंसान रहते हैं। पर कभी कभी हमारे आस पास घटी कुछ ऐसी घटनाओं के बारे में पता चलता है जो की इंसानियत की नींव ही हिला कर रख देती है।

भारतीय क्रिकेट टीम : महेंद्र सिंह धोनी ने मास्टर से कराया परिचय।

जब से मानव सभ्यता का विकाश हुआ है तभी से मानव समाज में अपराध और अपराधी भी पनपते रहे हैं। पर जैसे जैसे इंसानी सभ्यता, सफलता की ऊंचाई को छू रहा है वहीँ इसी सभ्य मानवीय समाज के बीच से कुछ ऐसे अपराधों की खबर आती है जो इंसानियत के चीथड़े उड़ाने के लिए काफी हैं। अपराध और अपराधी शब्द भी जब किसी जुर्म और मुज़रिम को सम्बोधित करने के लिए कम लगने लगे तो समझिये की शायद हमने अपनी आँखें खोलने में देर कर दी।

बसंतपंचमी 10 फ़रवरी 2019 : इस तरह कीजिये माँ सरस्वती को प्रसन्न।

दोस्तों हम इंसानों की सबसे बड़ी विडंबना यह है की जब कोई अपराध किसी और के साथ होता है तो हम थोड़ा भावुक होकर सहानुभूति जता देते हैं और यह समझते हैं की हमने अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी पूरी कर ली और इससे ज्यादा हम कर भी क्या सकते हैं। जब तक कोई घटना हमारे साथ न घटित हो तब तक हम उस अपराध और अपराधी को गंभीरता से नहीं लेते। जिसका की पुरे मानव समाज को दूरगामी परिणाम भुगतने पड़ते हैं। शायद आज हम वक़्त के उसी दौर पर पहुंच चुके हैं जब हम किसी अपराध के प्रति अपनी अनदेखी का दूरगामी परिणाम भुगत रहे हैं।

बॉलीवुड सेलिब्रिटीज पर चढ़ा सोशल मीडिया का बुखार।

 

दोस्तों यदि 2 साल की मासूम बच्ची से लेकर 65 की वृद्धा तक के सम्मान के लूटने की खबर सुनकर आपका खून नहीं खौलता तो जरा वक़्त निकालकर अपना डीएनए जांच कराकर इस बात की तसल्ली कर लें की क्या आप सच में इंसान हैं भी की नहीं। यदि वक़्त रहते मानव समाज के उच्चाधिष्ठ पदाधिकारी और आम जनता ने ऐसी घटना का प्रारम्भ में ही विरोध किया होता और ऐसे विकृत मानसिकता के जानवरों को फांसी पर लटका दिया होता तो शायद ऐसे घटनाओं पर हम थोड़ा अंकुश लगा पाते।

google

मेरे मन में एक सवाल हमेसा से पनपता रहा है की आखिर ऐसे विकृत किस्म के अपराध और अपराधी का जन्म कब और कैसे हुआ। क्योंकि जब हम बीमारी की जड़ों को जान लेंगे तभी उसे जड़ से उखाड़ पाने में कामयाब हो पाएंगे। विकृत मानसिकता के अपराधी समाज के लिए किसी बड़ी बीमारी से कम नहीं है। यह जान पाना बहोत मुश्किल होगा की इस तरह की पहली घटना कब कहाँ और किसके साथ घटी होगी क्योंकि किसी भी कार्य की पुनरावृत्ति तभी होती है जब इस तरह की पहली घटना को उजागर ही नहीं होने दिया जाता और उसे दबा दिया जाता है। पर हम इन घटनाओं के पीछे के कारण और अपराधी के इस विकृत मानसिकता को जरूर समझ सकते हैं।

 

अब व्हाट्स एप्प आपको देगा 1.8 करोड़ रुपये, अगर आपमें है सोशल मीडिया का कीड़ा।

 

अब मैं जो बात आपको बताने जा रहा हूँ उसे सुनने के बाद शायद आपको इस बात का अहसास हो जाए की इस तरह की घटना के लिए काफी हद तक हम भी ज़िम्मेदार हैं। हम इसलिए ज़िम्मेदार हैं क्योंकि हमने अपने आस पास और अपने घर में ऐसे माहौल को पनपने दिया और नज़र अंदाज़ किया जो की इन विकृत मानसिकता के अपराधियों के पनपने के लिए असली ज़िम्मेदार हैं। आपको यह जानकार सायद आश्चर्य होगा की इस तरह के अपराधों को जन्म देने वाले विकृत अमानवीय सोंच को जाने अनजाने में हम सभी ने अपने घर में ही पोषित होने दिया है। आइये जानते हैं वो कौन सी चीजें हैं जिसने इंसानों की सोच को इस हद तक विकृत कर दिया कि जिस नवजात बच्चे को देखकर मन में वात्सल्य उत्पन्न होना चाहिए उसे देखकर वासना पनपने लगी है।

मोदी को मिली बड़ी कामयाबी, देश की संपत्ति विदेश में फूंक कर विजय माल्या लौटेगा भारत।

 

1 . टेली – विज़न

दोस्तों जबसे टेलीविज़न का आविष्कार हुआ और इसने हमारे घर में अपनी जगह बनाई है तबसे इसने हमारे व्यक्तित्व और विचारों को काफी प्रभावित किया है। हम अपना काफी समय टेली-विज़न के सामने बैठकर बिताते हैं। अपने घर और घर के सदस्यों कुछ भी खरीदना हो तो हम सबसे अधिक टीवी पर दिखाए गए विज्ञापन पर भरोसा करते हैं। यही वजह है की जिन निजी वस्तुओं के बारे में हम अपने अति घनिष्ठ व्यक्ति के साथ भी चर्चा नहीं करते थे अब उन वस्तुओं के विज्ञापन टीवी पर लगातार चलते रहते हैं और हम सह-परिवार उसे देखते भी हैं। हर पांच मिनट के बाद टीवी पर आने वाला गंदे विज्ञापन धीरे धीरे हमारे बच्चों के कोमल मन को किस तरह विकृत कर रहा होता है हमें इस बात का अंदाज़ा तक नहीं होता। क्या आपने सोचा है कि जब सनी लिओनी ने बॉलीवुड में कदम रखा और उसके अतीत से अनजान छोटे बच्चे उसके फैन बन गए तो इसका उन पर क्या प्रभाव पड़ा होगा।

देखिये चुनावी बजट के बाद कैसे अपनी ही पीठ थपथपा रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं बीजेपी.

 

2. इंटरनेट

आज पूरी दुनिया हमारे हाथों में समाई हुई है। हाथ में मोबाइल और मोबाइल पर गूगल है जहाँ हमारे सारे सवालों के जवाब मौजूद हैं। अब आप सोचिये की जब सनी लियोनी के किसी प्रशंसक बच्चे ने पहली बार गूगल पर सनी लिओनी का नाम सर्च किया होगा तो इसका उसे क्या परिणाम मिला होगा। मेरे ख्याल से हम सभी जानते हैं की सनी लियोनी के नाम सर्च करने पर क्या परिणाम मिलते हैं और उन परिणामों का बच्चों पर क्या असर हुआ होगा। लेकिन जब सनी लिओनी को स्टार बनाया गया तो हम में से किसी ने भी इस बात का विरोध नहीं किया।

google

मोदी सरकार ने इंटरनेट पर परोसी जा रही अश्‍लीलता को ख़त्म करने के लिए कुछ वेबसाइटों पर भारत में बैन कर ज़रूर कुछ हद तक कामयाबी हासिल की है पर सही मायने में इस तरह के अपराधों के लिए इंटरनेट से ज्यादा टेलीविज़न ज़िम्मेदार है क्योंकि वेबसाइटों पर तो लोग जानबूझकर जाते हैं पर टीवी पर अश्‍लीलता लगातार परोसी जाती है जिसपर किसी का कोई लगाम नहीं है।

सलमान के फैन का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन,दी पिता सलीम को जान से मारने की धमकी .

दोस्तों, आप मेरी इस बात से कितना सहमत हैं ये आप मुझे कमेंट करके जरूर बताएं। यदि आपने अभी तक मुझे फॉलो नहीं किया है तो आप मुझे फॉलो करना न भूलें साथ ही इस आर्टिकल को लाइक जरूर कर दीजियेगा, धन्यवाद्।

मोदी को मिली बड़ी कामयाबी, देश की संपत्ति विदेश में फूंक कर विजय माल्या लौटेगा भारत।

Image result for vijay mallya ka pratyarpanनमस्कार दोस्तों,

 दोस्तों देश का  9000 करोड़ रूपया लेकर फरार होने वाला विजय माल्या के लिए अब लूट के पैसों से  रहीसों वाली जिंदगी जी पाना मुश्किल होने जा रहा है। बैंकों से करोड़ों रुपये का कर्ज लेकर रफूचक्कर होने वाले विजय माल्या के प्रत्यर्पण का रास्ता अब साफ़ हो चूका है। यूके की सरकार ने विजय माल्या के भारत प्रत्यर्पण की मांग स्वीकार कर ली है और माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है। प्रत्यर्पण से पहले विजय माल्या को अपना बचाव पक्ष तैयार करने एवं अपील करने के लिए 14 दिनों की मोहलत दी गई है।
आपको बता दें की भारतीय बैंकों से करोड़ों रुपये का लोन लेकर धोखाधड़ी करने के आरोप में विजय माल्या के खिलाफ जांच चल रही थी। जांच के बीच में से ही वे मार्च 2016 में लन्दन भाग गए थे। विजय माल्या को भारत वापस लाने के लिए केंद्र सरकार और जांच एजेंसियों ने काफी मेहनत और इंतज़ार किया। विजय माल्या के मामले में भारत को उस वक़्त बड़ी सफलता मिली जब दिसंबर 2018 में लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने माल्या को भारत वापिस भेजने का फैसला सुनाया। इस फैसले के साथ ही प्रत्यर्पण से सम्बंधित आदेश की फाइल होम सेक्रेटरी को सौंप दी गई थी। अब होम सेक्रेटरी ऑफिस ने भी विजय माल्या के प्रत्यर्पण सम्बंधित फाइल पर दस्तखत कर दिए हैं।
विजय माल्या पर बैंकों के साथ धोखाधड़ी करने का आरोप है। विजय माल्या पर आरोप है की उन्होंने बैंकों के पास लोन सम्बंधित गलत दस्तावेज़ प्रस्तुत कर 9000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। भारत की जांच एजेंसीयां सीबीआई और ईडी इस मामले की जांच कर रही है। आपको बता दें की विजय माल्या एक शराब कारोबारी थे और एयरलाइन्स के बिज़नेस पर भी उन्होंने कदम रखा था। माल्या के देश छोड़ने के बाद से अब तक माल्या की कई नामी और बेनामी संपत्ति जब्त की जा चुकी है जिसकी कुल अनुमानित लागत 13000 करोड़ रुपये बताई जा रही है।
विजय माल्या ने अपने एक ट्वीट में कहा की हर सुबह जब मई न्यूज़ पढता हूँ तो यह जानकारी मिलती है की लोन वसूली अधिकारी ने मेरी एक और संपत्ति जब्त कर ली है। अब तक जब्त की गई संपत्ति की अनुमानित कीमत 13000 करोड़ है जबकि बैंकों मेरी देनदारी केवल 9000 करोड़ रुपये है जोकि अभी समीक्षा का विषय है।
दोस्तों, मैंने आपको इतनी अच्छी खबर दी है तो प्लीज मुझे फॉलो करना न भूलें. धन्यवाद्।

सलमान के फैन का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन,दी पिता सलीम को जान से मारने की धमकी .

नमस्कार दोस्तों,

दोस्तों, बॉलीवुड के रॉबिनहुड सलमान खान का नाम एक बार फिर सुर्ख़ियों में है। पर इस बार सलमान खान अपनी वजह से चर्चा में नही हैं, उनकी इस चर्चा का कारण है उनका ही एक फैन। सलमान खान का यह फैन उत्तर प्रदेश के प्रयागराज का रहने वाला है। सलमान का यह फैन काफी समय से उनके एक करीबी कर्मचारी को फोन करके सलमान से मुलाकात करने की ज़िद्द कर उन्हें परेशान कर रहा था। सलमान के इस फैन का नाम शेरू है और यह काफी समय से सलमान के करीबियों को फोन कर उनसे मिलने की इच्छा जाहिर कर रहा था।

भारतीय क्रिकेट टीम : महेंद्र सिंह धोनी बने वनडे के दस हजारी। पढ़िए पूरी खबर।

सलमान के इस फैन ने सलमान के पिता सलीम खान को भी फोन किया था, सलीम से फोन पर हुई बातचीत के दौरान उसने खुद को छोटा शकील का आदमी बताया और अपने अंडरवर्ल्ड कनेक्शन का दर दिखते हुए इसने सलमान के पिता से सलमान खान के नंबर की मांग की। जब सलीम खान ने नंबर देने से मना किया तब इस शख्स ने सलीम खान को जान से मारने की धमकी दे डाली।

फिल्म “गली बॉय” का टीज़र हुआ रिलीज़, जानिये कैसी है फिल्म की कहानी।

जब सलमान की टीम के एक शख्स ने शेरू की इस ज़िद्द पर सलमान से मुलाकात कराने से मना कर दिया तब इस शख्स ने उसे भी धमकियाँ देना शुरू कर दिया। शेरू ने सलमान की टीम को धमकी देते हुए कहा की यदि उनकी मुलाकात सलमान से नहीं कराइ गई तो इसका बेहद बुरा परिणाम भुगतना पड़ेगा। शेरू द्वारा बार बार मिल रहे इन धमकियों की वजह से सलमान के टीम के कुछ सदस्यों ने तत्काल ही मुंबई के बांद्रा पुलिस स्टेशन में इसकी सुचना देते हुए शेरू के खिलाफ मामला दर्ज़ करा दिया।

देखिये रोहित शेट्टी और रणवीर सिंह की फिल्म सिम्बा, चार दिन में की 100 करोड़ वाली रिकॉर्ड तोड़ परफॉरमेंस।

सुचना मिलने के बाद मुंबई पुलिस तुरंत हरकत में आइ और शेरू को पकड़ने के लिए प्रयागराज रवाना हो गई से शेरू को गिरफ्तार कर लिया गया। शेरू, सलमान से मिलने की उम्मीद में कई बार उनके बांद्रा स्थित घर गैलेक्सी का भी चक्कर लगा चूका है। शेरू को पुलिस मुंबई लेकर आई और सोमवार को उसे कोर्ट में पेश किया गया। अभी तक इस मामले में सलमान खान की और से कोई भी प्रतिक्रिया नहीं आई है और वे इस वक़्त अपनी आने वाली फिल्म ‘भारत’ की शूटिंग में व्यस्त हैं।

महिला ने गूगल पर किया एक सर्च और खाते से उड़ गए एक लाख रुपये।

नमस्कार दोस्तों,

दोस्तों 21 वीं शदी अपने तकनिकी विकाश के लिए मशहूर है। आज  लगभग  हर  तरह की सर्विस जिसके लिए हम पहले मैनपावर पर निर्भर थे और समय भी काफी लगता था अब वे सारे काम मोबाइल के माध्यम से अपनी उँगलियों के एक क्लिक द्वारा कर सकते हैं। मोदी जी ने डिजिटल इंडिया का नारा देकर देश की जनता को तकनिक का अधिक से अधिक उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया है। पर तकनीक की उपयोग की इस बढ़ते चलन के  साथ ही इसकी सुरक्षा पर भी कई सवालिया निसान खड़े कर दिए हैं।

एक गूगल सर्च...और महिला के अकाउंट से उड़ गए 1,00,000 रुपए

दोस्तों आज हमारा लगभग हर निजी जानकारी किसी न किसी सरकारी या गैर सरकारी सर्वर के माध्यम से ऑनलाइन उपलब्ध है। आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, पैन कार्ड, बैंक अकाउंट ये सारी निजी और अति संवेदनशील जानकारी एक दूसरे से लिंक हैं और ऑनलाइन एक्सेस के लिए उपलब्ध है। हालांकि इनकी सुरक्षा के लिए सर्विस प्रोवाइडर्स हमेसा से हमे आस्वस्थ करते आये हैं और सरकार भी हमें अपनी गोपनीयता को लेकर निश्चिंत रहने की सलाह देती है पर फिर भी कई बार कुछ ऐसी घटनाएं देखने को मिलती है जिससे हमारी गोपनीयता की सुरक्षा पर कई सवाल खड़े हो जाते हैं। ऐसे में हमारा अपने बैंक खातों एवं अन्य निजी जानकारी की सुरक्षा के लिए चिंतित होना स्वाभाविक है। आइये जानते हैं ऐसे ही एक ऑनलाइन स्कैम के बारे में जहां एक महिला ने सिर्फ एक क्लिक से अपने एक लाख रुपये गंवा दिए।

आईपीएल में धूम मचाने आ रहा है यह रिकॉर्डधारी युवा खिलाड़ी.

ऑनलाइन धोखाधड़ी का यह हादसा जिस महिला के साथ हुआ है वह ईस्ट दिल्ली के सीमापुरी की रहने वाली हैं। आपको बता दें की ऑनलाइन धोखाधड़ी करने वाले गैंग बहोत ही शातिर होते हैं और वे अपने इस चोरी को अंजाम देने के लिए किसी भी प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर सकते हैं। ये चोर बड़े ही शातिर होते हैं और कंप्यूटर एवं इंटरनेट के अच्छे जानकार भी। यही वजह है की इन्हे पकड़ पाना बहोत ही मुश्किल होता है। इस बार इन शातिर ऑनलाइन स्कैमर्स ने महिला के खाते में सेंध लगाने के लिए सबसे बड़े और आम सर्च इंजन गूगल को  ही अपना हथियार बना लिया।

 

राफेल डील पर मोदी ने सुप्रीम कोर्ट से बोला झूठ, पकड़े जाने पर कहा सुप्रीम कोर्ट की समझ में गलती।

 

जिस महिला के साथ धोखाधड़ी की गई वह एक प्राइवेट फर्म में काम  करती हैं। इस महिला को अपने इ-वॉलेट की सेवाओं से जुडी कुछ समस्याएं आ रही थी। अपनी इस समस्या से सम्बंधित बात करने के लिए महिला ने जब गूगल पर वॉलेट कंपनी का कस्टमर केयर नंबर सर्च किया तभी हैकर्स ने इस घटना को अंजाम दे डाला।

एक गूगल सर्च...और महिला के अकाउंट से उड़ गए 1,00,000 रुपए

अपने इ-वॉलेट से गलत ट्रांसक्शन की शिकायत करने के लिए जब महिला ने गूगल पर कस्टमर केयर नंबर सर्च किया तो एक नंबर सामने आया। महिला ने समझा की यही कस्टमर केयर का नंबर है। उस नंबर पर कॉल किये जाने पर कॉल रिसीव करने वाले सख्श ने कंपनी का रिप्रेजेन्टेटिव बन कर बात की। महिला ने कस्टमर केयर का नंबर समझकर अपना कार्ड डिटेल शेयर कर दिया ताकि उसे इ-वॉलेट कंपनी से रिफंड मिल जाए। पर इससे पहले की महिला को थोड़ा भी शक हो  पाता, उसके खाते से एक लाख रुपये चोरी  हो गए। चोरी के बाद महिला को अहसास हुआ की जिस नंबर पर उन्होंने कॉल किया वह किसी स्कैमर का था  न की वॉलेट कंपनी का। हालांकि इस तरह के हादसों के लिए गूगल की कोई गलती नहीं होती बल्कि इसके लिए स्कैमर्स और खुद पीड़ित ही जिम्मेदार होता है।

 

कमरे में साथी एंकर, खाली शराब की बोतलें और न्यूज़ एंकर की संदिग्ध मौत। जानिये पूरी खबर।

 

आपको बता दें की इससे पहले भी स्काम्मेरस ने ऐसे कई चोरियों को अंजाम दिया है जिसमे गूगल, याहू या अन्य कई बड़ी सर्च इंजन या ईकॉमर्स पोर्टल को अपना जरिया बनाया है। अभी तक इन स्कैमर्स के बारे में कुछ खास सुराग नहीं मिल पाया है क्योंकि ये बहोत ही शातिर होते हैं और इस तरह की वारदात  को अंजाम देने के लिए अपनी नकली पहचान का उपयोग करते है। इनका आईपी अड्रेस भी नकली होता है।  इसलिए इसतरह के ज्यादातर मामलों में अपराधी बच जाते हैं। अगर आप भी ऑनलाइन पोर्टल से कुछ लेन देन करते हैं तो जरुरी सुरक्षा का जरूर ध्यान रखें। à¤à¤• गूगल सर्च...और महिला के अकाउंट से उड़ गए 1,00,000 रुपए

आइये जानते हैं ऑनलाइन स्कैमर्स से बचने के लिए कुछ जरुरी सावधानियां। 

  1. अपनी कार्ड या खाते से सम्बंधित गोपनीय जानकारी किसी से शेयर न करें। क्योंकि सर्विस प्रोवाइडर एवं बैंक कभी भी आपकी गोपनीय जानकारी जैसे की कार्ड नम्बर और पासवर्ड नहीं मांगता।
  2. जिस डिवाइस पे आप ऑनलाइन लेन-देन कर रहे हैं उसपर एंटीवायरस जरूर ओना चाहिए।
  3. विश्वसनीय पोर्टल से ही ऑनलाइन खरीदारी करें।
  4.  जगह आप पेमेंट कर रहे हैं वहाँ की पूरी जानकारी बटोर लें की वह विश्वासपात्र है की नहीं।
  5. गूगल सर्च की हर जानकारी 100 प्रतिशत सही हो यह जरुरी नहीं इसलिए जब बात आपके मेहनत की कमाई का हो तो सिर्फ ऑनलाइन मिली जानकारी पर आंखमूंदकर भरोसा न करें।

राहुल की राफेल का टूट गया कनेक्शन, हो रही क्रैश लैंडिंग।

दोस्तों अगर आप सभी ऊपर दी गई सारी जानकारी को अच्छी तरह से पढ़ लिए हैं और इसे अपनी आदत में शामिल कर लेते हैं तो आप कभी भी इस तरह के ठगी के शिकार नहीं बनेंगे।
यदि आपने अभी तक मुझे फॉलो/सब्सक्राइब नहीं किया है तो अभी कर दें ताकि आपको इसी तरह की हर जानकारी आपके मोबाइल पर मिलती रहे, धन्यवाद्। 

राफेल डील पर मोदी ने सुप्रीम कोर्ट से बोला झूठ, पकड़े जाने पर कहा सुप्रीम कोर्ट की समझ में गलती।



नमस्कार दोस्तों,
दोस्तों, जैसा की आप सब जानते है कि राफेल डील मामले में मोदी सरकार को विपक्षी दल ने घेर रखा है और इस मुद्दे की वजह से भारतीय जनता पार्टी जनता के बीच अपना भरोसा भी खोटी जा रही है। इस मुद्दे पर देश की सर्वोच्च अदालत ने शुक्रवार को अपना फैसला सुनते हुए भारतीय जनता पार्टी को क्लीन चीट देदी और इसी के साथ सभी भाजपा समर्थक कांग्रेस पर टूट पड़े। पर बीजेपी की यह खुसी ज्यासा समय तक नहीं ठीक पाई क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने जिस सीएजी रिपोर्ट का हवाला देते हुवे केंद्र सरकार को क्लीन चीट  दी थी असल में मोदी सरकार ने वह झूठी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में पेश की थी। पीएसी के अध्यक्ष ने इस बात से साफ़ इंकार कर दिया और कहा की उनकी जानकारी में राफेल डील से सम्बंधित कोई रिपोर्ट बना ही नहीं। 

कमरे में साथी एंकर, खाली शराब की बोतलें और न्यूज़ एंकर की संदिग्ध मौत। जानिये पूरी खबर।


अब इस मामले में झूठ पकडे जाने पर  मोदी सरकार ने बचाव में अपनी सफाई पेश करते हुए कहा है कि हमने कोर्ट को कोई झूठा रिपोर्ट नहीं दिया बल्कि हमारी दलील को कोर्ट ने ही गलत समझा.
मोदी सरकार ने शनिवार को राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर शीर्ष न्यायालय के आये फैसले के एक पैराग्राफ में संसोधन की मांग की है जिसमें नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (पीएसी ) रिपोर्ट और संसद की लोक लेखा समिति (सीएजी ) के रिपोर्ट का जिक्र किया गया है. मोदी सरकार ने कहा है कि कोर्ट द्वारा जांच रिपोर्ट की अलग अलग व्याख्या किये जाने की वजह से विवाद उत्पन्न हो गया है। 

छत्तीसगढ़ : कौन बनेगा मुख्यमंत्री।


केंद्र ने अपनी याचिका में कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के पैराग्राफ  क्रमांक 25 के दो वाक्यों पर कहा है कि यह शायद  उस नोट पर आधारित है जिसे केंद्र ने मुहरबंद लिफाफे में मूल्य विवरण के साथ जमा किया था लेकिन अदालत द्वारा इस्तेमाल किये गए शब्द से विपक्ष द्वारा इसका अलग मतलब निकाला जा रहा है.
केंद्र ने इस वाक्य का मतलब साफ करते हुए कहा कि वह यह नहीं कह रहा कि पीएसी रिपोर्ट का सीएजी  ने जांच किया था या संपादित हिस्से को संसद के समक्ष विमर्श के लिए रखा गया .  केंद्र ने इस नोट पर हुई गलत फहमी को स्पष्ट करते हुए कहा किया कि नोट में कहा गया है कि सरकार पीएसी  के साथ मूल्य विवरण को पूर्व में साझा कर चुकी है. यह वाक्य भूतकाल में लिखा गया है और यह तथ्यों के साथ पूर्ण रूप से सही है। 

राहुल की राफेल का टूट गया कनेक्शन, हो रही क्रैश लैंडिंग।


केंद्र द्वारा पेश की गई याचिका में कहा गया है कि उक्त नोट मोटे अक्षरों में लिखा गया है . जिसमे यह कहा गया है कि सरकार मूल्य विवरणों पर पीएसी के साथ विमर्श कर चुकी है. पीएसी की रिपोर्ट का  सीएजी परीक्षण कर रही है .रिपोर्ट का संपादित हिस्सा संसद के संज्ञान में है और यह देश के सामने है. इस याचिका के मुताबिक शब्द ‘हैज बीन (हो चुका है)’ भूतकाल के लिए इस्तेमाल हुआ है जिसमे लिखा है कि सरकार कैग के साथ मूल्य विवरण को पहले ही साझा कर चुकी है. यह भूतकाल में है और सही है। इस वाक्य के दूसरे हिस्से में सीएजी  के संबंध में कहा गया है कि कैग की रिपोर्ट का पीएसी परीक्षण कर रही है . फैसले में ‘इज’ की जगह ‘हैज बीन’ का इस्तेमाल हुआ है.
केंद्र ने शीर्ष अदालत के आदेश में आवश्यक संशोधन की मांग करते हुए कहा कि इसी तरह फैसले में यह कथन है कि रिपोर्ट का संपादित हिस्सा संसद के सामने रखा गया. इस बारे में कहा गया कि रिपोर्ट का संपादित हिस्सा संसद के सामने रखा गया और यह सार्वजनिक है.

सरकार ने की कपल्स से अपील, देर मत करो बच्चे पैदा करो।


याचिका के मुताबिक, नोट में केंद्र ने यह कहा गया है कि पीएसी रिपोर्ट का सीएजी परीक्षण कर रही है. यह प्रक्रिया की व्याख्या है जो आम तौर पर उपयोग में लायी जाती है।  पर फैसले में अंग्रेजी में ‘‘इज’’ यानि ‘‘है’’ की जगह ‘‘हैज बीन’’ अर्थात ‘‘कर चुकी है’’ का इस्तेमाल किया गया है। 


केंद्र सरकार ने ऐसे वक्त पर यह याचिका दायर की है जब विपक्षी कांग्रेस और अन्य ने इस मुद्दे पर सवाल उठाए हैं और सरकार पर सीएजी रिपोर्ट को लेकर शीर्ष न्यायालय को गुमराह किये जाने का आरोप लगाया गया है।
मोदी सरकार को बड़ी राहत देते हुए  सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को केंद्र के हक़ में फैसला सुनाते हुए कहा राफेल लड़ाकू विमान के सौदे की पूरी प्रक्रिया पारदर्शी है और इस लेन देन किसी भी प्रकार की कोई त्रुटि नहीं पायी गई जिसपर सवाल उठाये जा सकें। न्यायलय इस सौदे में निर्णय लेने की प्रक्रिया से ‘‘संतुष्ट’’ है. शीर्ष अदालत ने विपक्ष द्वारा किये गए जांच की मांग को खारिज करते हुए कहा की यह देश की सुरक्षा का मामला है और इस मामले पर और विवाद की कोई गुंजाईश नहीं रहनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद इस फैसले को लेकर भाजपा और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। 

जानिए बॉलीवुड की पांच सबसे खूबसूरत पर नाकाम एक्ट्रेसेस के बारे में। नं 1 है सबसे खूबसूरत


सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि उसे फ्रांस से 36 विमान खरीदने के ‘‘संवेदनशील मुद्दे’’ में हस्तक्षेप का कोई कारण नहीं लगता. बता दें कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दलों ने राफेल सौदे के मामले में केंद्र की मोदी सरकार पर  आरोप लगाते हुए कहा है की केंद्र ने अपने झूठ बोलने की प्रवित्ति से सुप्रीम कोर्ट को भी नहीं बख्सा है। विपक्षी दलों का केंद्र पर आरोप है की केंद्र ने अपनी झूठ नीति से सुप्रीम कोर्ट और संसद को गुमराह किया है।  आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने राज्यसभा के सभापति को पत्र लिखकर अटॉर्नी जनरल को संसद में बुलाए जाने की मांग की है. उन्होंने आरोप लगाया कि राफेल मामले में सरकार ने संसद और सुप्रीम कोर्ट दोनों को भी गुमराह किया किया है। 

ईशा अम्बानी की शादी की इन यादगार लम्हों के बारे में आपको जरूर जानना चाहिए।


खड़गे ने कहा- सरकार ने कोर्ट में सही तथ्य पेश नहीं किए


सर्वोच्च न्यायालय की ओर से राफेल मामले में फैसला सुनाये जाने के एक दिन बाद, लोक लेखा समिति (पीएसी) के अध्यक्ष मल्लिकाजुर्न खड़गे ने शनिवार को कहा कि वह महा न्यायवादी और नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) को इस मामले की जांच के लिए दबाव बनाएंगे और उनसे पूछेंगे कि कब सीएजी की रिपोर्ट पेश की गई और कब पीएसी ने उसकी जांच की।  कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा बुलाये गए मीडिया कॉन्फ्रेंस में खड़गे ने यहां मीडिया से कहा कि सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष झूठे दस्तावेज पेश कर सुप्रीम कोर्ट को गुमराह किया है।
उन्होंने कहा, ‘सरकार ने वहां दिखाया कि पीएसी रिपोर्ट पेश की गई है और सीएजी ने उसकी जांच की है.’ खड़गे ने कहा, ‘सरकार ने अदालत में यह झूठ बोला कि सीएजी रिपोर्ट को सदन और पीएसी में पेश किया गया है. उन्होंने अदालत में यह भी कहा कि पीएसी ने इसकी जांच की है. उन्होंने यह भी दावा किया कि यह रिपोर्ट सार्वजनिक है. अब केंद्र को बताना होगा की यह कहां है? क्या आपने इसे देखा है? मैं पीएसी के अन्य सदस्यों के समक्ष इस मामले को ले जाने वाला हूं.’

नेता प्रतिपक्ष के लिए भारतीय जनता पार्टी ने बृजमोहन अग्रवाल को किया आगे।


कोर्ट ने खारिज कर दी थी जांच संबंधी याचिका
सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राफेल सौदे की अदालत की निगरानी में जांच कराने के लिए विपक्ष द्वारा की गई याचिका खारिज कर दी थी. अदालत ने कहा था कि विमान की कीमत सीएजी के साथ साझा की गई और सीएजी की रिपोर्ट की जांच पीएसी ने की. अब इस रिपोर्ट का केवल संपादित भाग ही संसद के समक्ष पेश किया गया है और यह सार्वजनिक है.’
कोर्ट को गुमराह करने के लिए सरकार मांगे माफी

जानिए बॉलीवुड की पांच सबसे खूबसूरत पर नाकाम एक्ट्रेसेस के बारे में। नं 1 है सबसे खूबसूरत


सरकार पर सर्वोच्च न्यायालय को ‘गुमराह’ करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने सरकार को इसके लिए सर्वोच्च न्यायलय और देश की जनता से माफी मांगने को कहा है।  उन्होंने कहा, ‘ रिपोर्ट को कभी भी संसद में पेश नहीं किया गया है. केंद्र ने सर्वोच्च न्यायालय में गलत सूचना पेश की है।  सर्वोच्च न्यायालय में सीएजी रिपोर्ट पर गलत तथ्य पेश कर अदालत को गुमराह करने के लिए नरेंद्र मोदी को माफी मांगनी चाहिए.’
खड़गे ने यह भी कहा कि वे सर्वोच्च न्यायालय का आदर करते हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट कोई जांच एजेंसी नहीं है और केवल संयुक्त संसदीय समिति(जेपीसी) राफेल मामले में कथित भ्रष्टाचार की जांच कर सकती है.

सरकार बनने से पहले ही कांग्रेस ने शुरू कि किसानों की कर्ज माफी की तैयारी.


क्या बोले संजय सिंह?
संजय सिंह ने कहा कि जब सीएजी की कोई जांच रिपोर्ट आई ही नहीं तो सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कैसे कहा कि ऐसी कोई जांच रिपोर्ट है. सरकार के अटॉर्नी जनरल ने भी सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि सील बंद लिफाफे में जो कुछ भी दिया गया वह उन्होंने नहीं पढ़ा है तो अब उन्होंने करेक्शन का हलफनामा कैसे दिया? उन्हें वह सीलबंद रिपोर्ट कहां से मिली?
आप सांसद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश में जिक्र है कि एयरफोर्स प्रमुख ने कीमतों के खुलासे पर आपत्ति की थी. एयरफोर्स चीफ ने यह बयान कब दिया या ऐसा कोई एफिडेविट कब दिया था? नए एफिडेविट में भी सरकार कह रही है कि सीएजी को कीमतों के बारे में जानकारी दे दी गई है लेकिन सीएजी की रिपोर्ट तो जनवरी के बाद आएगी.

विधान सभा चुनाव विश्लेषण : कांग्रेस को जिताने में बीजेपी की मेहनत.


उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के हलफनामे के मुताबिक यह माना कि सीएजी और पीएसी कीमतों को लेकर पहले ही जांच कर रही है. शायद इसी वजह से सुप्रीम कोर्ट ने राफेल घोटाले में जांच के आदेश नहीं दिए. अगर कोर्ट को यह पता होता कि ऐसी कोई जांच नहीं हुई है तो शायद इस मामले में जांच के आदेश दिए जाते.
सिब्बल बोले – केंद्र ने बोला झूठ

अभिनेता रजनीकांत के जन्म दिन पर जानिये उनके बस कंडक्टर से सुपरस्टार बनने तक का सफर।


राफेल पर शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस  कर कपिल सिब्बल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने राफेल के मामले में जो    जो जानकारी दी है उसके सही होने पर संदेह उत्पन्न हो रहा है। इसलिए इस स्थिति को साफ़ करने के लिए यह जरुरी हो जाता है कि पीएसी (लोक लेखा समिति) में अटॉर्नी जनरल को बुलाया जाना चाहिए, जिससे यह साफ हो सके कि कोर्ट में गलत दस्तावेज क्यों जमा कराए गए, जिसका की कभी कोई जिक्र भी नहीं किया गया। यह बेहद संवेदनशील मामला है, जिस पर संसद  में चर्चा किया जाना बेहद जरुरी है। 


कपिल सिब्बल ने आगे कहा कि कांग्रेस इस मामले में हमेशा स्पष्ट रही है कि इस मामले के लिए सुप्रीम कोर्ट सही जगह नहीं है, यहां पर हर तरह की फाइल का खुलासा नहीं किया जा सकता. यह सर्वोच्च न्यायलय के अधिकारछेत्र में भी नहीं आता। . उन्होंने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट के हर फैसले में प्रेस रिपोर्ट और सरकार के हलफनामे का जिक्र किया गया है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि अनुच्छेद 32 के तहत कोर्ट के न्यायाधिकार के कारण वो  इस मामले का फैसला नहीं कर सकते। 

कमरे में साथी एंकर, खाली शराब की बोतलें और न्यूज़ एंकर की संदिग्ध मौत। जानिये पूरी खबर।

radhika kaushik

नमस्कार दोस्तों,

निजी टीवी न्यूज़ एंकर राधिका कौशिक की रहश्यमयी मौत के मामले में अभी बहुत से छुपे हुए परतों का खुलना बाकी है। अभी इस मामले में बहोत से ऐसे सवाल हैं जिसका जवाब ढूंढा  जाना बाकी है। अभी तक यह साफ़ नहीं हो पाया है की आखिर गुरुवार की रात को उस फ्लैट में क्या हुआ था। करीबियों से की गई सुरुवाती पूछताछ में अभी सिर्फ इतना ही ज्ञात हो पाया है की वहां राधिका अपने  साथी एंकर राहुल के साथ थी। घटना वाली फ्लैट से मिले चार खाली शराब की बोतलें और बियर के चार खाली कैन ने इस मामले को और उलझा कर रख दिया है। सोचने वाली बात यह है कि जब राधिका अपने साथी एंकर के साथ थी तो फिर आधी रात को ऐसा क्या हुआ कि राधिका छत की मंज़िल  गिर गई या फिर गिरा दी गई .

सरकार ने की कपल्स से अपील, देर मत करो बच्चे पैदा करो।

Image result for radhika kaushik news

राधिका के साथी एंकर जो की घटना की रात राधिका के साथ थे, उसने पूछताछ  के दौरान बताया कि राधिका ने बहोत अधिक शराब पी ली थी जिस वजह से उसने अपना संतुलन खो दिया और छत से नीचे गिर गई। पर राधिका के पिता ब्रजेश कौशिक का कहना है कि राधिका कभी शराब नहीं पीती थी। राधिका के पिता ने इस पुरे मामले को हत्या बताते हुए पुलिस से जांच की मांग की है। ब्रजेश जयपुर के एक स्कूल में संगीत के शिक्षक हैं। उन्होंने बताया की बेटी से आखरी बार रात 11 बजे बात हुई थी और उस वक़्त राधिका बहोत खुश थी।

राहुल की राफेल का टूट गया कनेक्शन, हो रही क्रैश लैंडिंग।

आखिर क्या करने आया था राहुल?

इस मामले की जांच कर रही पुलिस टीम अब इस बात को ध्यान में रखते हुए आगे बढ़ रही है की आखिर इतनी रात को राहुल राधिका के कमरे में क्या करने आया था। राहुल का कहना है की राधिका ने रात में उसे कई बार फ़ोन करके बुलाया। साथ ही शराब लाने के लिए भी राधिका ने ही कहा था। राहुल के मुताबिक राधिका काफी टेंशन में थी और दोनों ने शराब पी। राधिका ने बहोत शराब पी ली थी इसलिए उसने सुबह तक राधिका के साथ रुकने का फैसला किया। सुबह पांच बजे राधिका की रूम मेट आफिस से वापिस आ जाती लेकिन तब तक यह हादसा हो गया।

Image result for radhika kaushik news

छत्तीसगढ़ : कौन बनेगा मुख्यमंत्री।

राहुल के बदलते बयांन से उस पर गहरा रहा शक। 

एस एच ओ गिरिजाशंगार त्रिपाठी का कहना है कि राहुल ने कई बार अपना बयान बदला है। उसके बदलते बयान ने इस मामले में उसके लिप्त होने की आशंका को गहरा दिया है। राहुल ने सबसे पहले अपने बयान में कहा था की घटना के वक़्त वह बाथरूम में टंकी बंद करने गया था। बाद में अपनी बात बदलते हुए उसने कहा की राधिका को रेलिंग पर बैठा देखा था। इसी प्रकार और भी कई बाते हैं जो उसकी कही हुई बातों में विरोधाभास पैदा  करती है।

जानिए बॉलीवुड की पांच सबसे खूबसूरत पर नाकाम एक्ट्रेसेस के बारे में। नं 1 है सबसे खूबसूरत

राधिका के पिता ने इस मामले को हत्या बताया। 

राधिका के पिता ब्रजेश कौशिक ने राधिका की मौत को हादसा मानने से इंकार कर दिया है। उन्होंने इसे हत्या बताते हुए उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। ब्रजेश कौशिक का कहना है की इस मामले में राहुल के साथ कुछ और लोग भी लिप्त हो सकते  हैं। उन्होंने यह भी बताया की राधिका के ऑफिस के कुछ सहकर्मी  राधिका से ईर्ष्या भाव रखते थे।

ईशा अम्बानी की शादी की इन यादगार लम्हों के बारे में आपको जरूर जानना चाहिए।

राधिका के पिता का कहना था की राधिका हमेशा से ही एक होनहार और प्रतिभावान लड़की रही है। उसे अच्छी कवितायेँ लिखने का शौक था। राधिका किताबें भी लिख रही थी। अबसे तीन साल पहले ही राधिका ने हैदराबाद के एक न्यूज़ चैनल को ज्वाइन किया। घटना के रात भी राधिका रात 10 बजे की न्यूज़ बुलेटिन पढ़ कर घर लौटी थी।

Image result for radhika kaushik news

इस मामले की जांच कर रहे एसएसपी अजयपाल शर्मा ने बताया की  इस घटना की जांच कई पहलुओं को ध्यान में रखते हुए की जा रही है। राधिका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद इस मामले में और भी कुछ बातें साफ़ हो सकती है। फ़िलहाल, राधिका के परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज़ कर ली है।

कोहली की यह विराट गलती पद सकती है टीम इंडिया पर भारी।

दोस्तों देश और दुनिया की हर बड़ी खबर अपने मोबाइल पर पाने के लिए  इस न्यूज़ को फॉलो / सब्सक्राइब करना न भूलें धन्यवाद्।